30 September 2017

बेशकीमती जेवर ऐसे रहेंगे सुरक्षित - Protect your jwellery


अपने कीमती जेवरों को बैंक के लाकर में रखने के बाद आप भी उसकी सुरक्षा को लेकर सुनिश्चित हो जाती होंगी |
पर क्या बैंक के लाकर में रख देने से आपकी ज्वेलरी की सुरक्षा सुनिश्चित हो जाती है ? रिज़र्व बैंक ने हाल ही में एक आरटीआई के जवाब में कहा की लाकर से सम्मान चोरी होने या प्राकृतिक आपदा आने से हुए नुक्सान की भरपाई बैंक नहीं करेगा |
आरबीआई और कुछ अन्य पी एस यू बैंकों ने कहा की लकेर रखने वाले ग्राहकों और बैंक का रिश्ता मकान मालिक - किरायेदार जैसा है , इसलिए लाकर में रखे सामान की जिम्मेदारी ग्राहक की है |
अब सवाल यह उठता है की अगर बैंक सामान की जिम्मेदारी नहीं उठाते तो क्या लाकर में कीमती सामान रखना उचित है ? क्या इसके लिए 8000 - 10,000 रुपये सालाना खर्च करना तर्कसंगत है ?
लेकिन विशेषज्ञों की राय में घर पर कीमती सामान रखना बेहतर विकल्प नहीं है |
ऑप्टिमा मनी मैनेजर्स के एमडी और सीईओ पंकज मठपाल कहते हैं,"निश्चित रूप से बैंक के लाकर घर की आलमारी से ज्यादा सुरक्षित हैं | बैंक में सुरक्षा के तमाम इंतजाम , लोगों की प्रतिबंधित आवाजाही और प्रवेश-निकासी की कड़ी निगरानी  और 24 घंटे कैमेरे की निगरानी जैसी सुविधाएं लाकर को कहीं ज्यादा सुरक्षित बनाती हैं |
दूसरा तथ्य यह है की कीमती जेवर चाहे आपने पहन रखे हों या आप उन्हें लाकर में रखने जा रही हों , रास्ते में या लाकर में चोरी होने की आशंका बानी रहती है | सुरक्षा के लिए लाकर में रखे सामान की लिस्ट बनानी चाहिए और सामान का विवरण और तस्वीर आपके पास होनी चाहिए |
ऐसा इसलिए क्योंकि चोरी जैसी स्थिति में पुलिस को अपने सामान का सटीक विवरण दिया जा सकता है |
आप जिस बैंक के लाकर में सामान रख रही हैं , वहां दिन-रात की सुरक्षा के बारे में विस्तार से बात कर लें |
यह भी सुनश्चित करें की जिस शाखा  में लाकर है , वह रिहायशी इलाके में हो , इससे अनहोनी होने की आशंका कम हो जाती है |
तीसरी बात यह है की कीमती सामान का बीमा जरूर कराना चाहिए |
आमतौर पर लोग घर का बीमा और जीवन बीमा तो कराते हैं , लेकिन घर में रखे सामान के बारें में बीमा कराने की नहीं सोचते |
ज्वेलरी जैसे कीमती सामान के लिए आप हाउस होल्डर पालिसी ले सकते हैं | प्रीमियम अदा करने में आपकी थोड़ी रकम जरूर खर्च होगी , लेकिन इससे कीमती सामान को लेकर होने वाली चिंता नहीं रहेगी |"

घर की आलमारी की सुरक्षा बढ़ाएं 


कैश और कीमती सामान रखने के लिहाज बाजार में कई तरह की आलमारियां उपलब्ध हैं |
इसमें  साधारण से लेकर अत्याधुनिक आलमारियां भी शामिल हैं , जिन्हे खोले जाने का प्रयास होने पर मालिक को एसएमएस के जरिये सूचना प्राप्त हो जाती है |
इसके अलावा आपको सीसीटीवी और चोरों के बारे में अलर्ट करने वाला अलार्म लगाने पर न्यूनतम 10,000 का खर्च आ सकता है |

जरूर कराएं  बीमा 

कीमती सामानों की सुरक्षा के साथ-साथ आपको चोरी और क्षति से बचाने के लिए उसका बीमा भी कराना चाहिए | ध्यान दें की कैश का बीमा नहीं होता और सामान की कीमत के आधार पर उसका बीमा कराया जाता है |
आप सामान चाहे घर के लाकर में रखें या बैंक के , उसका बीमा अवश्य कराएं |
बैंक लाकर में राखी सामाग्री अगर 10 लाख या उससे ज्यादा की है तो उसकी कीमत को प्रमाणित कराना जरूरी है और यह काम किसी सर्टिफाइड वलुएर से कराया जा सकता है |
घर का बीमा कराते हुए उसमें ज्वेलरी शामिल करने पर एक से डेढ़ फ़ीसदी का अतिरिक्त खर्च उठाना पड़ता है |

क्या हैं अन्य विकल्प ?

अगर आपको घर और बैंक दोनों ही जगह सुरक्षित नहीं लग रहे हों तो आप प्राइवेट लाकर का विकल्प भी चुन सकती हैं |
निजी लाकर का खर्च आकार के अनुसार 4,500 से लेकर 30,000 रुपये सालाना तक हो सकता है |

ये ताले भी बढ़ाएंगे सुरक्षा 



  • मैकेनिकल लॉक - इनकी चाबियों का डिज़ाइन ऐसा होता है की जिसकी नक़ल करना मुश्किल है |                      (14 लीटर - कीमत 5000 रुपये  से ऊपर )
  • कीपैड लॉक - इसमें इलेक्ट्रॉनिक कीपैड पर आपको चार अंकों का पासवर्ड सेव करना होता है |                            (8.7 लीटर - कीमत 7000 रुपये से ऊपर )
  • स्वाइप कार्ड - इस लाकर को स्वाइप कार्ड के जरिये खोला जाता है | लाकर खोलने के लिए आपको क्रेडिट या डेबिट कार्ड की तरह ही इसे स्वाइप करना होता है |                                                                                      (35 लीटर - कीमत लगभग 5500 रुपये )
  • बायोमेट्रिक लाकर - इस लाकर का ताला आपकी उंगली के छाप से खुलता है | इसमें विकल्प में 30 फिंगरप्रिंट सेव करने की सुविधा मिलती है |                                                                                                    (8.5 लीटर - कीमत 9000 रुपये से ऊपर )

निष्कर्ष 

आज हमने अपनी मेहनत से कामये गए रुपये और जेवरों को सुरक्षित रखने के बारे में जाने हैं |
बैंक में भी आपके जेवर सुरक्षित नहीं है ये एक समस्या बन गयी है की आखिर जब सुरक्षित नहीं है तो हम इतना खर्च क्यों उठायें बैंक के लाकर का |
अगर आपको ये पोस्ट पसंद आयी हो तो प्लीज हमारी इस पोस्ट को सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करें ताकि और भी लोग इसके विषय में जान पाएं |
आपको सही और विस्तार से जानकारी देना ही हमारा लक्ष्य है|
अगर आपको इस पोस्ट की कोई बात समझ में नहीं आ रही या आप कोई सुझाव लेना या देना चाहते हैं तो नीचे कमेंट करें और अगर आप चाहते है की हमारी हर पोस्ट सबसे पहले आप तक पहुंचे तो आप सबसे नीचे दाहिने तरफ "Follow By Email " में अपना ईमेल डालके हमें फॉलो करें |
फॉलो करने की प्रक्रिया को पूरी तरह से पूर्ण करने के लिए फॉलो करने के बाद आपके ईमेल के All Mails में भेजे गए हमारे ईमेल को वेरीफाई करें |
धन्यवाद |

No comments:

Post a Comment

Please make a comment